उन्नत खेतीकाम की खबरग्रामीण भारतबागवानीबिजनेस आइडियासफल किसान

सफेदा की खेती: एक एकड़ से होगी 50 लाख तक कमाई

यूकेलिप्टस की खेती इमारती लकड़ी के लिए की जाती है। इसकी खेती से आप कम समय में इमारती लकड़ी प्राप्त कर सकते हैं।

Safeda ki Kheti: सफेदा को नीलगिरी, यूकेलिप्टस भी कहा जाता है। इसका पौधा सबसे तेज बढ़ने के लिए जाना जाता है।  इसके पौधे 10-15 साल में तैयार होकर बेचने के लिए तैयार हो जाते हैं। यूकेलिप्टस के पेड़ 50-80 फीट तक होते हैं। 

सफेदा का उपयोग इमारती लकड़ी, तेल, कागज और औषधीय बनाने में किया जाता है। इसकी पत्तियों से तेल निकाला जाता है, जिसका इस्तेमाल गले, नाक, पेट आदि की बीमारियों के इलाज में होता है। इससे कई तरह की औषधियां भी बनाई जा सकती हैं। 

तो आइए, इस ब्लॉग में यूकेलिप्टस की खेती (Safeda ki Kheti) के बारे जानें।  

इन क्षेत्रों में होती है खेती

भारत में यूकेलिप्टस की खेती (Eucalyptus ki kheti) आंध्रप्रदेश, बिहार, गोआ, गुजरात, पंजाब, हरियाणा, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, उत्तरप्रदेश, तमिलनाडु, केरल, पश्चिम बंगाल और कर्नाटक में की जाती है।

बुवाई का समय

यूकेलिप्टस की खेती (Eucalyptus ki kheti) के लिए सबसे उपयुक्त समय जून से अगस्त का होता है। इसकी बागवानी करने के लिए जून के महीने में गढ्ढे तैयार कर लें और जुलाई या पहली बारिश के पहले पौधों की रोपाई कर दें। 

बीज की मात्रा

यूकेलिप्टस की खेती (Eucalyptus ki kheti) के लिए प्रति एकड़ करीब 350 पौधों की जरूरत होती है। यदि आप सघन खेती करना चाहते हैं तो प्रति एकड़ 480 पौधों की रोपाई कर सकते हैं। 

फसल अवधि

जैसा कि आप जानते हैं इसके पौधे बड़ी तेजी से बढ़ते हैं। इसके पेड़ 10 साल में बिक्री के लिए तैयार हो जाते हैं।

खेत की तैयारी

  • सबसे पहले खेत की गहरी जुताई करके सभी खरपतवारों को निकाल लें।
  • सामान्य हल से जुताई करके खेत को समतल बना लें।
  • पौध रोपण से करीब 20 दिन पहले खेत में एक फीट चौड़ा और गेहर गड्ढडा बना लेना चाहिए।

बुवाई कैसे करें?

  • पहले से तैयार पौधों की रोपाई खेत में की जाती है।
  • पौधे से पौधे की दूरी करीब 3 फीट रखी जाती है।

सिंचाई

  • यदि रोपाई के समय पर्याप्त बारिश नहीं हुई है, तो सिंचाई करें।
  • यह फसल सूखे को आसानी से सहन कर लेती है।
  • अच्छी उपज के लिए विकास के दौरान सिंचाई की जाती है।

उपज और लाभ

  • इससे प्रति पेड़ 5 साल में करीब 400 किलो लकड़ी प्राप्त होती है।
  • यूकेलिप्टस से आप प्रति एकड़ 50 लाख रुपए की कमाई कर सकते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

प्रश्न- यूकेलिप्टस का पेड़ कितने दिन में तैयार होता है?

उत्तर- यूकेलिप्टस का पेड़ 5 से 10 वर्ष में तैयार हो जाते हैं। 

प्रश्न- सफेदा का पेड़ कितने साल में तैयार होता है?

उत्तर- सफेदा का पेड़ 10 साल में तैयार हो जाता है।

प्रश्न- यूकेलिप्टस के पेड़ की कीमत क्या है?

उत्तर- यूकेलिप्टस के पेड़ की कीमत 10 हजार रुपए तक होती है। हालांकि यह कीमत पेड़ की मोटाई और बाजार भाव पर भी निर्भर करता है। 

प्रश्न- यूकेलिप्टस 1 दिन में कितना पानी पीता है?

उत्तर- यूकेलिप्टस एक दिन 15-20 लीटर तक पानी पीता है। 

ये तो थी, यूकेलिप्टस की खेती (Safeda ki Kheti) की जानकारी। ऐसे ही खेती-किसानी और कृषि मशीनरी की जानकारी के लिए द रूरल इंडिया वेबसाइट विजिट करें। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button